Sunday, December 4, 2022

Virat Kohli Test Captainship टेस्ट कप्तानी छोड़ने के बाद पहली बार बोले विराट, कहा लीडर बनने के लिए कप्तान होना जरूरी नहीं

इंडिया न्यूज़, नई दिल्ली:

Virat Kohli Test Captainship: विराट कोहली ने जब से भारत की टेस्ट कप्तानी छोड़ी है, तब से हर तरफ बातों का बाजार बहुत गरम था। लेकिन भारत की टेस्ट टीम की कप्तानी छोड़ने के बाद पहली बार विराट कोहली ने अपनी चुप्पी तोड़ी है और

उन्होंने अपने ब्यान में कहा है कि लीडर बनने के टीम का कप्तान होना जरूरी नहीं है। विराट ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज के बाद अचानक टेस्ट की कप्तानी छोड़ने का ऐलान किया था और सभी को हैरानी में डाल दिया था।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले उन्हें वनडे ही कप्तानी से भी हटाया गया था और T20 वर्ल्ड कप के बाद उन्होंने T20 की कप्तानी खुद ही छोड़ दी थी। लेकिन टेस्ट की कप्तानी छोड़कर उन्होंने सब को हैरान कर दिया।

लीडरशिप के लिए कप्तानी जरूरी नहीं (Virat Kohli Test Captainship)

फायरसाइट चैट शो के दौरान विराट कोहली ने भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का उदाहरण देते हुए कहा की लीडर बनने के लिए आपको कप्तान होने की आवश्यकता नहीं होती है। जब एमएस धोनी ने टीम की कप्तानी छोड़ी थी, उसका मतलब ये नहीं था की अब वो हमारे लीडर नहीं हैं।

वें हमेशा ही हमारे लीडर रहेंगे। वें टीम के एक ऐसे व्यक्ति थे जिनसे हम हमेशा इनपुट लेना चाहते थे। जीतना या हारना आपके हाथ में नहीं होता है। लेकिन एक्सीलेंस के लिए कोशिश करना और हर दिन बेहतर होते रहना हर इंडिविजुअल के लिए बेहद जरूरी है।

उन्होंने आगे कहा कि हर चीज का एक टाइम पीरियड होता है। सबसे पहले आपको इस बात की पूरी समझ होनी चाहिए कि आपने क्या हासिल करने के लिए निर्धारित किया है।आपने उन टारगेट को हासिल किया है या नहीं। आपको इस बारे में पता होना चाहिए। एक बल्लेबाज के रूप में आप टीम के और अधिक काम आ सकते हैं।

कप्तान कोहली की अचीवमेंट्स (Virat Kohli Test Captainship)

जब विराट कोहली ने भारत की टेस्ट टीम की कमान संभाली थी, उस समय भारत की टेस्ट रैंकिंग 7 थी। लेकिन विराट ने कप्तान बनते ही भारत की टीम को लगातार बेहतर बनाने की कोशिश की और भारत की टीम को नंबर 1 तक पहुंचाया।

विराट की कप्तानी में भारत की टीम टेस्ट क्रिकेट की रैंकिंग्स में लगातार साढ़े 3 साल तक नंबर-1 पर रही। विराट ने भारत की टेस्ट टीम को फर्श से अर्श तक पहुंचाया। टेस्ट क्रिकेट पर इतने लम्बे समय तक राज करना अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।

2018-19 में भारत ने विराट की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया को क्रिकेट इतिहास में पहली बार उसकी ही सरजमीं पर 2-1 से हराकर टेस्ट सीरीज जीती और ऐसा करने वाले विराट एकलौते एशियाई कप्तान बने थे।

Virat Kohli Test Captainship

Also Read : IND 1000th ODI Match भारत के लिए ऐतिहासिक होगा वेस्टइंडीज सीरीज का पहला वनडे मैच

Connect With Us: Twitter Facebook

- Advertisement -
Naveen Sharma
Naveen Sharma
Sub Editor, India News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Popular

More like this
Related

यात्रा के दौरान भारतीय टीम ऑलराउंडर दीपक चाहर सहित कुछ खिलाड़ियों का खोया सामान

(नई दिल्ली): भारतीय ऑलराउंडर दीपक चाहर सहित टीम इंडिया...